उसने कहा, जाओ – A Romantic Sad Hindi Poem

usne-kaha-romantic-sad-hindi-love-poem

Every relationship should start with ‘amazing’ feeling and get better and better as you continue to be together. Isn’t it?

Even you always put her on the priority, sometimes, things might not get smooth. Love comes with small fights too!

I am no expert on relationships. But I believe that opting for honesty in all part of life, being completely truthful, and showing your love unconditionally will always help you have a balanced and happy relationship.

उसने कहा, जाओ…

– By Deepanshu Gahlaut

उसने कहा, जाओ…….

तुम्हें नहीं है वक़्त मेरे लिए,
नहीं है फुरसत एक घडी भी बात करने के लिए,
कभी कहते हो थके हो,
कभी कहते हो सोना है,
कभी फोन का नेटवर्क कम बताते हो 🙂

जाओ, तुम्हें नहीं है वक़्त मेरे लिए…… १

कल की ही तो बात है,
तुमने कहा था कि नहीं रह सकता,
एक पल भी तुम्हारे बिना,
और आज कहते हो कुछ दिन गुजारते है बिना बात के,
कल ही तो कहा था,
की काम में अब मन नहीं लगता,
और आज कहते हो काम भी तो जरूरी है,

जाओ, तुम्हें नहीं है वक़्त मेरे लिए……..२

मैं मन ही मन मुस्कुराया और कहा…….

तू कोई चीज नहीं है,
जिसके लिए वक़्त निकाला जाए,
तू तो हर घडी हर लम्हा बसी है मुझमें,
थक कर जब लेट जाता हूं , तेरी गोद का ही ख्याल रहता है,
सोने जाता हूं तब तेरी यादों से ही सुकून पाता हूं ……. ३

तुम दिल में रहते हो,
फिर क्या दिन और क्या रात बिना बातो के,
तेरी यादें ही इतनी ही की शायद सदिया गुजर जाए,
फिर कुछ दिन ही क्या है…. ४

तेरी मोहबब्त अब एक इबादत बन गई है,
यही मेरे जीने की वजह बन गई है,
तेरी मोहबब्त ही तो मेरा काम है और करना जरूरी भी है,
क्योंकि काम के बिंना बसर भी तो नहीं होती…. 🙂 ५

तुम्हारा –
दीपांशु

Please share if you like it.

You may also like-